back to top

अभिभाषण पर बोली कांग्रेस: बहाने बनाए गए, जनता का अपमान किया गया

नई दिल्ली। कांग्रेस ने संसद में दिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण को भ्रामक और लोगों को धोखा देने वाला करार देते हुए बृहस्पतिवार को दावा किया कि सरकार ने बहाने बनाने का काम किया है तथा देश की जनता का अपमान करने वाला ऐसा कोई अभिभाषण पहले नहीं हुआ। पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने यह भी कहा कि अभिभाषण में जिन उपलब्धियों की बात की गई हैं, वो सच से दूर हैं।

शर्मा ने संवाददाताओं से कहा

शर्मा ने संवाददाताओं से कहा, सरकार के पास निवेश करने के लिए पैसा नहीं है। उसकी भरपाई के लिए सरकार ने कई प्रयास किए। आरबीआई के पास मौजूद पैसे पर निगाह लगा रखी है। अभिभाषण में आयकर रिटर्न बढऩे का दावा किया गया। सच्चाई यह है कि सिर्फ संख्या बढ़ी है, कर संग्रह नहीं बढ़ा है। उन्होंने आरोप लगाया, ए अभिभाषण लोगों को धोखा देने वाला है। लोगों के विवेक को चुनौती देता और अपमानित करता है। यह भ्रामक और नीरस था। अभिभाषण के माध्यम से जनता को अपमानित करने का काम कभी नहीं हुआ। हम इसकी निंदा करते हैं। कांग्रेस के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल ने ट्वीट कर कहा, इस सरकार का राष्ट्रपति का आखिरी अभिभाषण उपलब्धियों का रिपोर्ट कार्ड होना चाहिए था, न कि काम करने में नाकामी के बहानों और कभी पूरा नहीं होने वाले वादों का संक्षिप्त विवरण।

पी चिदंबरम ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर संसद भवन परिसर में

पूर्व वित्त मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर संसद भवन परिसर में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा सरकार ने सांख्यकीय आयोग को नष्ट कर दिया है इससे सरकार के आंकड़ों की जो मामूली विश्वसनीयता बची थी वह भी खत्म हो गई है। उन्होंने कहा कि अब जो भी सरकार के आंकड़े प्रकाशित होंगे, वे आयोग के परीक्षण के बिना ही प्रकाशित होंगे। ऐसे में सरकार जो भी आंकड़े देगी, उनकी कोई विश्वसनीयता नहीं होगी। वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने भी सरकार पर आंकड़ों की हत्या करने का आरोप लगाते हुए कहा कुछ राज्यों में भाजपा सरकारों पर निर्दाेष लोगों की मुठभेड़ में हत्या कराने के कथित आरोप लगे हैं और अब इस सरकार (केन्द्र सरकार) ने आंकड़ों की हत्या भी शुरु कर दी है। सिब्बल ने कहा कि पिछले 45 सालों में देश में बेरोजगारी दर अपने शीर्ष पर है।

ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन की बात कही

उन्होंने कहा कि एक तरफ मोदी सरकार रोजगार एवं अन्य क्षेत्रों से जुड़े आंकड़े सार्वजनिक नहीं करना चाहती है वहीं राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में सरकार के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन की बात कही है। इसे दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति बताते हुए सिब्बल ने कहा लोग उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें भविष्य में रोजगार मिलेगा। दरअसल, केन्द्र की नरेन्द्र मोदी नीत सरकार के पांच साल का एक तरह से रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बृहस्पतिवार को कहा कि इसने पिछले साढ़े चार साल में लोगों को नई आशा और विश्वास दिया तथा देश का सम्मान बढ़ाया है जबकि 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले देश अस्थिरता के दौर से गुजर रहा था। कोविंद ने बजट सत्र के पहले दिन संसद के केन्द्रीय कक्ष में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में अपने अभिभाषण में सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए यह भी कहा कि इस सरकार ने नया भारत बनाने का संकल्प लिया है।

Latest Articles