back to top

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कदाचार और लोकतंत्र का अपमान किया: कांग्रेस

नई दिल्ली। राहुल गांधी के केरल के वायनाड से भी चुनाव लड़ने के फैसले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हमले पर पलटवार करते हुए कांग्रेस ने सोमवार को आरोप लगाया कि मोदी ने धर्म के आधार पर बात करके कदाचार और लोकतंत्र का अपमान किया है। पार्टी ने यह भी कहा कि इसके लिए प्रधानमंत्री को माफी मांगनी चाहिए और चुनाव आयोग को निर्णायक कार्रवाई करनी चाहिए।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा, प्रधानमंत्री जी धर्म के आधार पर विभाजन पैदा करना चाहते हैं। वह हार के डर से बौखला गए हैं। उन्होंने पूरे दक्षिण भारत, स्वतंत्रता सेनानियों, सनातनी परंपरा और गंगा-जमुनी संस्कृति का अपमान किया है। उन्होंने सवाल किया, क्या मोदी जी या भाजपा को यह जानकारी है कि वायनाड लवकुश मंदिर के नाम से जाना जाता है? क्या आप भगवान राम मंदिर को भी अपमानित करेंगे? क्या उन्हें यह जानकारी है कि वायनाड में आठ अलग अलग आदिवासी समुदाय रहते हैं?

किसानों की कर्मभूमि है और वहां 90 फीसदी साक्षरता है

सुरजेवाला ने कहा, वायनाड किसानों की कर्मभूमि है और वहां 90 फीसदी साक्षरता है। वहां 50 फीसदी हिंदू आबादी है और सब लोग मिलकर रहते हैं। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री ने धर्म के आधार पर लोगों को बांटने का कुकृत्य किया है। यह कदाचार है। उन्हें पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। चुनाव आयोग को इस पर संज्ञान लेकर निर्णायक कार्वाई करनी चाहिए। इससे पहले पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी ने प्रधानमंत्री पर वर्धा की चुनावी सभा में धर्म के आधार पर बात करके लोकतंत्र का अपमान करने का आरोप लगाते हुए यह भी कहा कि अगर मोदी के दिल में दक्षिण भारत को लेकर कोई संवेदना है तो उन्हें भी वहां से चुनाव लडऩा चाहिए।

तिवारी ने संवाददाताओं से कहा

तिवारी ने संवाददाताओं से कहा, कांग्रेस देश के सभी नागरिकों को नागरिक के तौर पर देखती है। उनको समुदाय के तौर पर नहीं देखती। हमारी सोच इतनी संकीर्ण नहीं है कि हम प्रधानमंत्री की तरह भारतीय नागरिकों को जाति और धर्म की नजर से देखें। प्रधानमंत्री ऐसा करके लोकतंत्र का अपमान करते हैं। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, इस पार्टी (कांग्रेस) के नेता अब बहुसंख्यक (हिन्दू) आबादी वाली सीटों से चुनाव लडऩे से डर रहे हैं। गौरतलब है कि गांधी इस बार अपनी परंपरागत सीट अमेठी (उत्तर प्रदेश) के अलावा केरल के वायनाड से भी चुनाव लड़ रहे हैं।

Latest Articles