back to top

शहर में बढ़ते हुए प्रदूषण को कम करने के लिए माई गमला ने न्यू स्टार्ट अप लांच किया

सिक बिल्डिंग सिंड्रोम को दूर कर रहा है माई गमला का न्यू स्टार्ट अप

लखनऊ शहर में बढ़ते हुए प्रदूषण और उससे होने वाले प्रभाव को कम करने के लिए माई गमला ने नया स्टार्ट अप लखनऊ में लांच किया है जो कि मुख्यता नासा के शोध पर आधारित है।

नासा ने एसोसिएटेड लैंडस्केप सोइयेटी ऑफ़ अमेरिका के साथ में एक शोध किया जिसमें नासा ने पौधों और मनुष्यों के बीच में बढ़ती दूरी को कम करने का प्रयास किया है। इसी शोध को माई गमला ने अपना बिज़नेस मॉडल बना के ग्रीन गिफ्टिंग और ग्रीन आइडियाज और सस्टेनेबल पर्यावरण को एक ब्रांडिंग करने का एक बेहतरीन काम किया है।
श्रीमती वर्षा श्रीवास्तव जो इस कंपनी की कोफाउंडर है और उन्होंने यह अवगत कराया कि आज कल शहरीकरण की वजह से लोग प्लांट्स से दूर होते जा रहे हैं और इसी दूरी को भरने तथा उसके बारे में लोगों को बताने का काम हम लोगो ने शुरु किया है। आज कल 30से 40 % घरो में पुअर वेंटिलेशन के कारण लोग सिक बिल्डिंग सिंड्रोम का शिकार हो जाते हैं । सिक बिल्डिंग सिंड्रोम में घरो में गैसों का आदान प्रदान न होने की वजह से होता है और यह उनलोगो को प्रभावित करता है जो ज्यादा समय घरो की दीवालो में बंद रहते है जैसे बच्चे, महिलाये, बुजुर्ग। इस सिंड्रोम की वजह से बिना किसी कारण आपको चक्कर आना, जी मचलाना , थकावट, सर का दर्द करना और स्वशन रोग इत्यादि शामिल है। यह रोग घर बदलने या घर के अंदर का पर्यावरण बदलने से ठीक हो जाता है।
इस रोग को कम करने के लिए माई गमला ने नासा सर्टिफाइड प्लांट्स को हर घर में पहुंचाने का काम गिफ्ट के माध्यम से करने का प्रयास किया है।

विशेषताएं : 1 सिक बिल्डिंग सिंड्रोम और प्लांट्स
२ ऑनलाइन प्लांट शॉपिंग  www.mygamla.com

                  ३ ग्रीन गिफ्टिंग
४ सस्टेनेबल एनवायरनमेंट पर शिक्षा

Mygamla गिफ्टिंग की अवधारणा को आगे लाने और बढ़ावा देने के लिए में संस्था है – “गिफ्ट अ प्लांट”। एक पौधे को उपहार देने की अवधारणा इस उद्यम के लिए एड्रेनालाईन थी। यह विचार बुके और अन्य नीरस, पारंपरिक उपहारों को जीवित पौधों के साथ बदलने का था।
अपनी अवधारणा के बाद से, माईगामला ने न केवल उपहार देने के क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है, बल्कि लोगों को अपने ब्रांड के विपणन और ग्रीन मार्केटिंग और गिफ्टिंग के साथ नए स्तरों पर ले जाने का तरीका भी बदल दिया है।
माइगामला के पीछे के दिमाग और हाथ युवा, जोशीले पेशेवरों की एक टीम है, जिसका लीडरशिप श्री सत्यदेव श्रीवास्तव करते है , इन्होने प्लांटेशन मैनेजमेंट की पढाई करके टाटा ग्लोबल और ओलम इंटरनेशनल के साथ में देश और विदेशो में कॉफ़ी और मसालो की प्लांटेशन पे १० साल तक काम किया है।


इन्होने बताया की हम यह सुनिश्चित करने के लिए गुणवत्ता पर जोर देते हैं कि हम आपको सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले नवीनतम उत्पाद प्रदान करते हैं। हमारी टीम, जो बागवानी के प्रति उत्साही हैं, यह सुनिश्चित करती है कि बाहर जाने वाला हर उत्पाद विश्व स्तर के गुणवत्ता मानकों से मेल खाता हो।
हम यह मानते हैं कि जब आप एक पौधा खरीदते हैं, तो आप एक जीवन लेते हैं और इस नए जीवन को पोषित करने के लिए उसका पोषण करना पड़ता है। जब भी आपको हमारी आवश्यकता हो हम आपको बिक्री के बाद अपने प्लांट्स का पोषण करने और उसके रख रखाव में भी पूरी मदद करेंगे।
माईगामला की टीम , जो हर सीजन में आपके लिए नए, उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद लाती है। यह जापान से विदेशी बोनसाई हो या थाईलैंड से लकी बैम्बू या फिर चीन और अन्य साउथ ईस्ट एशियाई कंट्री से फोलिएज प्लांट्स हो।
घरों, कार्यालयों और अन्य स्थानों में निरंतर कदम उठाते हुए, हम घरों को हरियाली और नरम स्थान बनाने में सफल रहे हैं जो घरो में शांति का वातावरण बना रहे हैं और पॉजिटिव एनर्जी को घर की अंदर ला रहे है।
श्री सत्यदेव ने अवगत कराया की हम लोग अपने उत्पाद का विपड़न लखनऊ, कानपुर, बनारस और इलाहाबाद में बिग बाजार , इजी डे और स्पेंसर्स के साथ कर रहे है।

Latest Articles