back to top

दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश वाल्मीकि मेहता का निधन

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति वाल्मीकि मेहता का शुक्रवार को सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उनका यहां शाम को निगम बोध घाट स्थित विद्युत शवदाह गृह में अंतिम संस्कार किया गया। न्यायमूर्ति मेहता के परिवार में उनकी पत्नी, दो बेटे और दो बहुएं हैं।

न्यायमूर्ति मेहता के बेटे तन्मय मेहता

न्यायमूर्ति मेहता के बेटे तन्मय मेहता का विवाह प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की बेटी से हुआ है। मुंबई में छह जून 1959 को जन्मे न्यायमूर्ति मेहता ने स्कूली शिक्षा विशाखापट्टनम से, बी कॉम (एच) दिल्ली विश्वविद्यालय के श्री वेंकटेश्वर कॉलेज से जबकि एलएलबी डीयू के कैंपस लॉ सेंटर से की। उन्होंने 1982 में दिल्ली बार काउंसिल में नामांकन कराया और वकालत शुरू की। उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय, जिला अदालतों और विभिन्न न्यायाधिकरणों में वकालत की और 2001 में उन्हें 42 साल की उम्र में वरिष्ठ अधिवक्ता की पदवी मिली थी। वह 15 अप्रैल 2009 को दिल्ली उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश बने थे।

Latest Articles