back to top

चैत्र नवरात्रि 2019: जानें पूजा विधि, भोग व अनुष्ठान का महत्व यहां

नवरात्र वह समय है, जब दोनों रितुओं का मिलन होता है। इस संधि काल मे ब्रह्मांड से असीम शक्तियां ऊर्जा के रूप में हम तक पहुँचती हैं। शक्ति की उपासना का पर्व इस वर्ष चैत्र नवरात्र, 6 अप्रैल से प्रारंभ है और समापन 14 अप्रैल को है।

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक हर

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक हर साल चैत्र महीने के पहले दिन से ही चैत्र नवरात्रि मनाई जाती है। चैत्र महीने की शुरुआत होते ही नौ दिनों तक चैत्र नवरात्रि की धूम रहती है। रामनवमी को इसका समापन होता है। नवरात्रि में माँ भगवती के सभी नौ रूपों की उपासना की जाती है। इस समय आध्यात्मिक ऊर्जा ग्रहण करने के लिए लोग विशिष्ट अनुष्ठान करते हैं। इस अनुष्ठान में देवी के रूपों की साधना की जाती है।

चैत्र नवरात्रि 2019की तिथि :-

6 अप्रैल (पहला दिन)

प्रतिपदा – इस दिन पर “घटत्पन”, “चंद्र दर्शन” और “शैलपुत्री पूजा” की जाती है।

7 अप्रैल (दूसरा दिन)

दिन पर “सिंधारा दौज” और “माता ब्रह्राचारिणी पूजा” की जाती है।

8 अप्रैल (तीसरा दिन)

यह दिन “गौरी तेज” या “सौजन्य तीज” के रूप में मनाया जाता है और इस दिन का मुख्य अनुष्ठान “चन्द्रघंटा की पूजा” है।

9 अप्रैल (चौथा दिन)

“वरद विनायक चौथ” के रूप में भी जाना जाता है, इस दिन का मुख्य अनुष्ठान “कूष्मांडा की पूजा” है।

10 अप्रैल (पांचवा दिन)

इस दिन को “लक्ष्मी पंचमी” कहा जाता है और इस दिन का मुख्य अनुष्ठान “नाग पूजा” और “स्कंदमाता की पूजा” जाती है।

11 अप्रैल (छटा दिन)

इसे “यमुना छत” या “स्कंद सस्थी” के रूप में जाना जाता है और इस दिन का मुख्य अनुष्ठान “कात्यायनी की पूजा” है।

12 अप्रैल (सातवां दिन)

सप्तमी को “महा सप्तमी” के रूप में मनाया जाता है और देवी का आशीर्वाद मांगने के लिए ह्लकालरात्रि की पूजाह्व की जाती है।

13 अप्रैल (आठवां दिन)

अष्टमी को “दुर्गा अष्टमी” के रूप में भी मनाया जाता है और इसे “अन्नपूर्णा अष्टमी” भी कहा जाता है। इस दिन “महागौरी की पूजा” और “संधि पूजा” की जाती है।

14 अप्रैल (नौंवा दिन)

“नवमी” नवरात्रि उत्सव का अंतिम दिन “राम नवमी” के रूप में मनाया जाता है और इस दिन “सिद्धिंदात्री की पूजा महाशय” की जाती है।

कलश स्थापना का मुहूर्त

कलश स्थापना का  मुहूर्त 6 अप्रैल को मध्यान्ह 11:36 से 12:24 तक व्याप्त रहेगा। इसके अलावा प्रात:काल में सुबह 7:33 से 9:07 तक शुभ का चौघडिय़ा मुहूर्त व्याप्त रहेगा। इस दौरान भी कलश स्थापना कर सकते हैं। प्रतिपदा तिथि दोपहर 3 बजकर 23 मिनट तक रहेगी। इन शुभ योगों के चलते नवदुर्गा की अराधना करना विशेष पुण्यदायक रहेगा। स्मार्त मत के अनुसार अष्टमी और नवमी 13 अप्रैल को रहेगी। इस दिन सुबह 11.41 बजे तक अष्टमी है। इसके बाद नवमी शुरू हो जायेगी। इस मत में मध्यान्ह व्यापिनी नवमी को राम नवमी मानते हैं। 14 अप्रैल को सुबह 9.35 बजे तक नवमी तिथि होगी।

चैत्र नवरात्रि के दौरान अनुष्ठान –

बहुत भक्त नौ दिनों का उपवास रखते हैं। भक्त अपना दिन देवी की पूजा और नवरात्रि मंत्रों का जप करते हुए बिताते हैं।चैत्र नवरात्रि के पहले तीन दिनों को ऊर्जा माँ दुर्गा को समर्पित है। अगले तीन दिन, धन की देवी, माँ लक्ष्मी को समर्पित है और आखिर के तीन दिन ज्ञान की देवी, माँ सरस्वती को समर्पित हैं। चैत्र नवरात्रि के नौ दिनों में से प्रत्येक के पूजा अनुष्ठान नीचे दिए गए हैं।

पूजा विधि –

  • सबसे पहले सुबह नहा-धोकर मंदिर के पास ही पटले पर आसन बिछाएं और मां दुर्गा की मूर्ति की स्थापना करें।
  • माता को चुनरी उढ़ाएं और शुभ मुहूर्त के अनुसार कलश स्थापना करें।
  • सबसे पहले भगवान गणेश का नाम लें और माता की पूजा आरंभ करें।
  • नवरात्रि ज्योति प्रज्वलित करें इससे घर और परिवार में शांति आती है और नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है।
  • माता को लैंग, पताशा, हरी इलायची और पान का भोग लगाएं।
  • भोग लगाने के बाद माता की ९ बार आरती करें।
  • हर मां का नाम स्मरण करते रहें।
  • अब व्रत का संकल्प लें।

1.अखण्ड ज्योति

नवरात्रि ज्योति घर और परिवार में शांति का प्रतीक है। इसलिए, यह जरूरी है कि आप नवरात्रि पूजा शुरू करने से पहले देसी घी का दीपक जलतें हैं। यह आपके घर की नकारात्मक ऊर्जा को कम करने में मदद करता है और भक्तों में मानसिक संतोष बढ़ाता है।

2. जौ की बुवाई :

नवरात्रि में घर में जौ की बुवाई करते है। ऐसी मान्यता है की जौ इस सृष्टी की पहली फसल थी इसीलिए इसे हवन में भी चढ़ाया जाता है। वसंत ऋतू में आने वाली पहली फसल भी जौ ही है जिसे देवी माँ को चैत्र नवरात्रि के दौरान अर्पण करते है।

चैत्र नवरात्री का महत्व

यह माना जाता है कि अगर भक्त बिना किसी इच्छा की पूर्ति के लिए महादुर्गा की पूजा करते हैं, तो वे मोक्ष के मार्ग पर अग्रसर कर मोक्ष प्राप्त करते हैं।

3. नव दिवस भोग (9 दिन के लिए प्रसाद)

प्रत्येक दिन एक देवी का प्रतिनिधित्व किया जाता है और प्रत्येक देवी को कुछ भेंट करने के साथ भोग चढ़ाया जाता है। सभी नौ दिन देवी के लिए 9 प्रकार भोग निम्न अनुसार हैं:

  • 1 दिन: केले
  • 2 दिन: देसी घी (गाय के दूध से बने)
  • 3 दिन: नमकीन मक्खन
  • 4 दिन: मिश्री
  • 5 दिन: खीर या दूध
  • 6 दिन: माल पोआ
  • 7 दिन: शहद
  • 8 दिन: गुड़ या नारियल
  • 9 दिन: धान का हलवा
  1. दुर्गा सप्तशती :

दुर्गा सप्तशती शांति, समृद्धि, धन और शांति का प्रतीक है, और नवरात्रि के 9 दिनों के दौरान दुर्गा सप्तशती के पाठ को करना, सबसे अधिक शुभ कार्य माना जाता है।

  1. नौ दिनों के लिए नौ रंग :

शुभकामना के लिए, नवरात्रि के नौ दिनों के दौरान लोग नौ अलग-अलग रंग पहनते हैं

  • 1 दिन: हरा
  • 2 दिन: नीला
  • 3 दिन: लाल
  • 4 दिन: नारंगी
  • 5 दिन: पीला
  • 6 दिन: नीला
  • 7 दिन: बैंगनी रंग
  • 8 दिन: गुलाबी
  • 9 दिन: सुनहरा रंग
  1. कन्या पूजन 

कन्या पूजन माँ दुर्गा की प्रतिनिधियों (कन्या) की प्रशंसा करके, उन्हें विदा करने की विधि है। उन्हें फूल, इलायची, फल, सुपारी, मिठाई, श्रृंगार की वस्तुएं, कपड़े, घर का भोजन (खासकर: जैसे की हलवा, काले चने और पूरी) प्रस्तुत करने की प्रथा है।

अनुष्ठान के कुछ विशेष नियम

  1. प्रार्थना और उपवास चैत्र नवरात्रि समारोह का प्रतीक है। त्योहार के आरंभ होने से पहले, अपने घर में देवी का स्वागत करने के लिए घर की साफ सफाई करते हैं।
  2. सात्विक जीवन व्यतीत करते हैं। भूमि शयन करते हैं। सात्त्विक आहार करते हैं।
  3. उपवास करते वक्त सात्विक भोजन जैसे कि आलू, कुट्टू का आटा, दही, फल, आदि खाते हैं।
  4. नवरात्रि के दौरान, भोजन में सख्त समय का अनुशासन बनाए रखते हैं और अपने व्यवहार की निगरानी भी करते हैं।

क्या करें क्या न करें

  1. सत्संग करते हैं।
  2. ज्ञान सूत्र से जुड़ते हैं।
  3. ध्यान करते हैं।
  4. चमड़े का प्रयोग नहीं करते हैं।
  5. क्रोध से बचे रहते हैं।
  6. कम से कम 2 घंटे का मौन रहते हैं।
  7. अनुष्ठान समापन पर क्षमा प्रार्थना का विधान है तथा विसर्जन करते हैं।

 

Latest Articles